देखूँगा कभी ऐ शऱाब,

देखूँगा कभी ऐ शऱाब,
तुझे अपने लबों से लगाकर,
तू मुझमे बसेगी,
कि मैं तुझमें बसूँगा।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button