Hindi Shayari

स्वतंत्र भारत के प्रथम उपराष्ट्रपति पुण्यतिथि

Post Copied

जैसा तुम सोचते हो, वैसे ही बन जाओगे।
खुद को निर्बल मानोगे तो निर्बल और
सबल मानोगे तो सबल ही बन जाओगे
डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन पुण्यतिथि पर नमन

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *